सुना तो था

सुना तो था जान है तो जहान है सुनते तो रहे हैं बचपन से पर जान पे यूँ बन आयेगी ऐसा तो कभी सोचा भी ना था उम्मीद पे दुनिया क़ायम है सुनते तो रहे हैं बचपन से पर यूँ टूटेगी उम्मीद सभी ऐसा तो कभी सोचा भी ना था कुदरत के सब बंदे हैं सुनते तो रहे हैं बचपन से पर कुदरत ही खा लेगी...

कुछ कह रहा है कोरोना

कुछ कह रहा है कोरोना कोरोना तो एक बहाना हैमक़सद तो सबक़ सिखलाना हैइंसान जो बनने चला था ख़ुदाउसे वापस राह पे लाना है…कोरोना तो एक बहाना है हो गए थे हम मग़रूर बहुतथे अहंकार की धुन में मस्तमाँ प्रकृति को तड़पाने मेंबिगड़ी औलाद के लक्षण थेजो तोड़ के हर लक्ष्मण...